Take a look at this post… ‘भारत के संविधान की प्रस्तावना के बारे में ख़ास बातें (About Indian Constitution Preamble ‘.

http://motivationalatip.blogspot.com/2020/05/about-indian-constitution-preamble.html

Birth Date Of Gandhi Jee.

राष्ट्रपिता महात्मा गांधी का जन्म 2 अक्टूबर 1869 ईसवी में पोरबंदर ,गुजरात में हुआ था।

उसके पिताजी का नाम करमचंद गांधी और माता जी का नाम पुतलीबाई था।

          उनकी प्रारंभिक शिक्षा पोरबंदर और उसके आसपास हुई थी। 4 दिसंबर 1888 ईस्वी में वे वकालत की पढ़ाई के लिए यूनिवर्सिटी कॉलेज लंदन यूनिवर्सिटी लंदन गए। 1813 ईसवी में उनका विवाह कस्तूरबा से हुआ ।जो स्वाधीनता संग्राम में उसके साथ साथ कदम से कदम मिलाकर चली। गांधीजी के जीवन में दक्षिण अफ्रीका के प्रवास का ऐतिहासिक महत्व है। 1893 से 1914 ईस्वी तक दक्षिण अफ्रीका में गुजारा। वहीं से उन्होंने अंग्रेजो के खिलाफ अहिंसा का पहला प्रयोग किया।

1915 ईस्वी में गांधी जी भारत लौट आए और स्वाधीनता संग्राम में कूद पड़े।

आजादी के लड़ाई में उन्होंने सत्य का प्रयोग किया।

सत्य और अहिंसा उनका प्रमुख हथियार था।

उन्होंने स्वराज का मांग किया ।सर्वोदय का कार्यक्रम चलाया। स्वदेशी का नारा दिया।समाज में व्याप्त भेदभाव को मिटाने की कोशिश की।

अंततः अंग्रेजी हुकूमत से भारत को आजादी दिलाई।

गांधीजी के संबंध में जितना लिखूं काम है।

उन्हें रवीन्द्रनाथ ठाकुर ने ‘ महात्मा ‘ कहा। उन्हें बापू ,राष्ट्रपिता आदि कहकर सम्पूर्ण राष्ट्र याद करता है।

गांधीजी ने ‘ हिन्द स्वराज ‘, सत्य के साथ मेरे प्रयोग आदि पुस्तकें लिखीं।

उन्होंने हरिजन यंग इंडिया आदि पत्रिकाएं भी संपादित की। उनका पूरा जीवन राष्ट्र के लिए समर्पित था।

अंत में 30 जनवरी 1948 को सिफिरा नाथूराम ने गोली मार कर बापू की हत्या कर दी।

पूरे राष्ट्र में अहिंसा दिवस के रूप में   गांधीजी के जन्म दिवस को मनाया जाता है।

__&&&&_____English_____&&&&&&

Father of the Nation Mahatma Gandhi was born on 2 October 1869 in Porbandar, Gujarat.

His father’s name was Karamchand Gandhi and mother’s name was Putlibai.

His early education took place in and around Porbandar.  On 4 December 1888, he went to University College London University London to study law.  He was married to Kasturba in 1813 AD, who followed her step by step in the freedom struggle.  The migration of South Africa has historical significance in Gandhiji’s life.  Lived in South Africa from 1893 to 1914 AD.  From there, he made the first use of non-violence against the British.

Gandhi returned to India in 1915 AD and plunged into the freedom struggle.

He used truth in the freedom struggle.

Truth and non-violence were his main weapons.

He demanded Swaraj. Organized a program of servility.  Swadeshi slogan. Tried to eradicate discrimination prevalent in society.

Finally, India gained independence from the British rule.

As much as I can write in relation to Gandhiji.

He was called ‘Mahatma’ by Rabindranath Thakur.  The entire nation remembers him by calling him Bapu, Father of the Nation etc.

Gandhi wrote books like ‘Hind Swaraj’, My Experiments with Truth.

He also edited magazines like Harijan Young India etc.  His entire life was devoted to the nation.

Finally on 30 January 1948, Siphira Nathuram shot and killed Bapu.

Gandhi’s birthday is celebrated as Non-Violence Day across the nation.

By

Sajjan

Kumar

Yadav

Nation father Gandhi Jee.

कहानियां जो आपकी जिंदगी बदल दे।

बहुत समय पहले की बात है। मोहन प्रत्येक दिन एक जगह पर बैठ कर भीख मांगा  करता था।पास में मंदिर था ।आने जाने वाले कुछ दे दिया करते थे।मोहन भी हर आने जाने वाले से भीख देने का इशारा करता था।            एक दिन भगवान के दर्शन करने शहर के मशहूर बिजनेसमैन रमेश बाबू पहुंचे। भिखारी ने रमेश बाबू से भी भीख मांग लिया ।रमेश बाबू उसके पास जाकर बैठ गए और प्यार से बात करने लगे।रमेश बाबू,”आप ये काम कितने दीनों से कर रहे है?? भिखारी ने जबाव दिया दस साल से कर रहा हूं।साहब! रमेश बाबू पुनः पूछ बैठे। इतने दिनों में आप कितने लोगो को कुछ दिए है?मोहन बोला, साहब मैं भिखारी हूं। कहां से कुछ दूंगा?रमेश बाबू उस भिखारी से कहा “जो किसी को कुछ दे नहीं सकता उसे मांगने का भी अधिकार नहीं है”।यहां भी विजिट करें।ये बात भाखरी के दिमाग में गूंजने लगा।अगले दिन वह भीख मांगने नहीं आया ।घर पर लेटे लेटे सोचने लगा अब मैं क्या करू?फिर जाकर एक आइडिया आया। क्यों न हम जंगल से कुछ फूल तोड़कर लाए और लोगो को दे? वही हुआ अगले दिन सवेरे जग कर मोहन जंगल गया ।वहां से एक टोकरी फूल तोड़कर लाया। यहां से शुरू होता है सफर _____________________अब मोहन आने जाने वालों को एक फूल दिया करते थे।लोग बड़े शौक से भगवान को चढ़ाने के लिए फूल लेते थे और कुछ पैसे दे देते थे। अब भिखारी, भिखारी नहीं                    रहा,मोहन फूलवाले हो गया।मोहन का ये बिजनेस दिन प्रतिदिन बढ़ाता गाय।अब वह शहर का मशहूर बिजनेसमैन है।कई शहरों में उनका फूल का दुकान है।

सफलता के लिए सोच बदलो सफलता खुद आपके पास आएगी।___________________English______________It occurred a long time ago.  Every day Mohan used to sit at a place and beg. There was a temple nearby. The visitors used to give something. Mohan also used to give alms to every visitor.
 One day, the city’s famous businessman Ramesh Babu arrived to see God.  The beggar also begged Ramesh Babu. Https://yogisajjankumarart.wordpress.com/wp-admin/
 Ramesh Babu sat near her and started talking with love. Ramesh Babu, “How many people have you been doing this work for ??  How many people have you given anything to?
 Mohan said, sir, I am a beggar.  Where will I give something?
 Ramesh Babu said to the beggar “He who cannot give anything to anyone does not even have the right to ask”.
 Visit here also.
 This thing began to resonate in Bhakhari’s mind. Next day he did not come to beg. Let me lie down at home thinking what should I do?
 Then came an idea.  Why didn’t we pluck some flowers from the forest and give it to the people?  The same thing happened the next morning Mohan went to the forest and brought a basket of flowers from there.
 The journey starts from here _____________________
 Now Mohan used to give a flower to the visitors.
 People used to take flowers and offer some money to offer to God with great passion.  Now beggar, beggar no more, Mohan has become a florist.
 This business of Mohan increases cow by day. Now he is a famous businessman of the city. He has a flower shop in many cities.
 4
 Change your mind for success Success will come to you.

Actor Irrfan Khan Died:जयपुर से झूठ बोलकर दिल्ली आए थे इरफान, फिर इस लड़की ने दिया था साथ इरफान खान ने बॉलीवुड में काफी नाम कमाया और अपनी एक्टिंग की वजह से लोगों का दिल जीता था।

बॉलीवुड अभिनेता इरफान खान अब हमारे बीच नहीं रहे। इरफान ने अपनी एक्टिंग,दमदार आवाज और अपने व्यवहार से बॉलीवुड में एक खास जगह बनाया, लेकिन इसको हासिल करने के पीछे उनकी एक संघर्षपूर्ण कहानी भी है। इरफान खान जयपुर के एक सामान्य परिवार से थे ,और उन्होंने कड़ी मेहनत कर बॉलीवुड में यह मुकाम हासिल किया था। इस मुकाम को हासिल करने में उनकी गर्ल फ्रेंड ने बखूबी साथ दिया ।  बाद में उसी लड़की से उसका निकाह हुआ।

इरफान खान जयपुर में एक लोवर मिडिल क्लास घर में जन्मे थे। इरफान घर के सबसे बड़े बेटे थे इसलिए उनपर जिम्मेदारियां भी काफी थी। लेकिन बचपन से ही वह एक्टर बनने चाहते थे इसीलिए वह घर में झूठ बोलकर दिल्ली आ गए और दिल्ली आकर थियेटर कोर्स करना चाहते थे। अफसोस ये रहा कि दिल्ली आने के बाद भी इरफान का प्रवेश एनएसडी- नेशनल ड्रामा स्कूल में नहीं हुआ। उसी वक्त उनके पिता का देहांत भी हो गया।

Actor Irfan khan who is no more!

फिर इरफान ने दिकॉमेंट्री फिल्म बनाया जिसे देखकर उसे बड़े पर्दा पर चांस मिला।

इरफान काफी समय से बीमार चल रहे थे।इरफान का यू गुजर जाना हिन्दुस्तान की अपूरणीय छती है।

______________________&&&&____&&&&&__

Actor Irrfan Khan Died: Irrfan came to Delhi by lying from Jaipur, then this girl had given Irfan Khan a lot of fame in Bollywood and won the hearts of people due to his acting.

Posted byThe world of creation. April 29, 2020Posted inUncategorized

Bollywood actor Irrfan Khan is no longer with us.  Irrfan earned a special place in Bollywood with his acting, strong voice and his mannerisms, but he also has a struggling story to achieve this.  Irrfan Khan was from a normal family in Jaipur, and he achieved this position in Bollywood by working hard.  To achieve this milestone, her girl friend supported her well.  Later she was married to the same girl.

Irrfan Khan was born in a lower middle class home in Jaipur.  Irfan was the eldest son of the house, so he also had a lot of responsibilities.  But since childhood, he wanted to become an actor, that is why he came to Delhi lying in his home and wanted to come to Delhi for a theater course.  Sadly, even after coming to Delhi, Irfan did not enter NSD-National Drama School.  His father died at the same time.

CtorActor Irfan khan who is no more!

Then Irfan made a documentary film, seeing that he got a chance on the big screen.

Irfan had been ill for a long time. The passing away of Irfan is an irreplaceable shade in India.

https://indianartica.blogspot.com/

रचना की दुनियां

यह ब्लॉग कविता कहानियां, व्यंग और आज के सच को दिखाने के लिए बनाया गया है।इसके माध्यम से मै समाज के हालात को आप तक पहुंचाने की कोशिश करता हूं।आशा है हमारा यह प्रयास आपको समाज के सच्चाई से अवगत कराएगा।

भारत माता

इस कविता के माध्यम से भारत के दशा को व्यक्त किया गया है।

भारतमता ग्रामवासिनी

खेतों में फैला है श्यामक

धूल भरा मैला आंचल

गंगा यमुना में आंसू जल

मिट्टी की प्रतिमा

उदासिनी!

दैन्य जड़ित अपलक नत चितवन ,

आधारों में चिर नीरव रोदन,

युग युग के तम से विष्णन मन

वह अपने घर में

प्रवसिनी!

तीस कोटि संतान नग्न तन,

अर्ध क्षुधित शोषित निरस्त्रजन,

मूढ़ , असभ्य ,अशिक्षित ,निर्धन,

नतमस्तक तरू तल निवासिनी !

स्वर्ण शस्य पर पद तल लूठित,

धरती सा सहिष्णु मन कुंठित,

कुंदन कंपित अधर मौन स्मित,

राहु ग्रसित

शरदेंदू हासिनी!

भारत माता ग्रामवासिनी खेतों में फैला श्यामल धूल भरा मैला सा आंचल ।

चिंतित भृकुटी क्षितिज तिमिरांकित ,

नामित नयन नभ वाष्पा – च्छा- दित,

आनान श्री छाया शशि उपमित,

ज्ञान मूढ़

गीता प्रकाशिनी!

सफल आज उसका तप संयम,

पीला अहिंसा स्टन्य सूधोपम,

हरती जन मन भय भव तम भ्रम

जग जननी

जीवन विकासिनी!

Edited by – Sajjan Kumar

Lovely Cuckoo

Where is the cuckoo found?

The cuckoo is found almost all over the world. It is generally seen in Spring and summer seasons. It is the darling of the spring season. It flies from one place to another is search of spring. It does not like to stay in cold places.

What  is the usefulness and conclusion of cuckoo?

The Cuckoo is beautiful bird. It does not serve any useful purpose. But is famous for its sweet voice. When it sings ,people are charmed. It is singing bird. It gives inspiration to poet. To poets the sweet songs of cuckoo transform the earth into an imaginary fairy land. It takes us forget our cares and worries. People like to listen to its sweet notes . Nature poets are delighted to hear its sweet notes.

What does the Cuckoo eat?

The cuckoo eats grass and fruits. It is very found of small worms and insects. It eats grants also.

The nature of cuckoo ?

The Cuckoo is a gentle bird. It’s vice is sweet. People love it for its sweet notes .It arrival is a sign of spring. It lives in bushes. The cuckoo is a cunning bird . It describes the crow . It lays eggs in the crow’s nest . The crow rears up the young ones of the cuckoo.

The cuckoo is a small but common bird. It looks lovely like a crow .

Edited By- Sajjan Kumar Yadav

Please like and share

Create your website at WordPress.com
प्रारंभ करें